Haryana GK

Haryana GK Ancient history of Haryana

Haryana Administrative Service (HAS)

Haryana GK Ancient history of Haryana

To view more Files — Click Here

To Join FB — Click here

Chapter-04 Ancient history of Haryana

Haryana GK Ancient history of Haryana
Haryana GK Ancient history of Haryana

ANCIENT HISTORY OF HARYANA

  • The present day Haryana is the region where, along the banks of the river Saraswati, the Vedic civilisation began and matured.
  • It was here that Lord Krishna preached Bhagvad Gita tants before the start of the Battle of Mahabharata.
  • It was on this land that Saint Ved Vyas wrote Mahabharata in Sanskrit.
  • The history of Haryana can be traced from various sources like mythological of sources, archaeological sources, monetary sources and so on.
  • The state has many sites belonging to the Indus valley civilisation, which flourished well in the state.
  • It also remained a place of many dynasties.
  • Haryana came into existence as a separate state on 1st November, 1966 but its history is very old.
  • According to Manusmriti, the state got its origin by many deities, thus, it was earlier known as Brahmavrat.

Historical Sources of Haryana

  • Important historical sources of Haryana are discussed below:

Mythological Sources

  • The word ‘Haryana’ is mentioned in ‘Kumarika Khanda’ of Skanda Purana.
  • The social and political life of the state is mentioned in different historical texts like Brahmana texts, Rigveda, Shatapatha Brahmana, Aitareya Brahmana and Chandogya Upanishad.
  • Maharishi Ved Vyasa wrote ‘Mahabharata epic in Kurukshetra, Haryana.
  • Mahabharata has mentioned Haryana as Bahudhanyaka (the land of plentiful grains) and Bahudhana (the land of immerse riches).
  • ‘Rohtak got its mention in the ‘Nakula-Digvijyam’ of Mahabharata.
  • Karnal city is associated with Karna of Mahabharata.
  • Vamana Purana, a Sanskrit text, has mention of rivers and forest of the region around Thanesar and Kurukshetra in modern Haryana.
  • Haryana also got its mention in texts like Ashtadhyayi, Mahabhashya, Chaturbharni, harsnachan Rajatarangini.

Buddhist and Jain Literary Sources

  • Haryana got its mention in the Buddhist texts like Majjhima Nikaya and Divyavdan.
  • Agroha (Hisar) is mentioned in Divyavdan text, which was the important centre of Buddhist religion.
  • It is mentioned in the ‘Pamchasudani text’ that Mahatma Buddha travelled many places of Haryana.
  • Agroha is also mentioned in the Jain texts like Kathakosh’ and ‘Bhadrabahu Charita’, where Lohacharya, a Jain scholar was lived.
  • Agroha was also the major centre of Jain religion.

Inscriptions

  • Many inscriptions have been found in Haryana and the most important among these, is the Asokan pillar, which is located at Topra (Ambala).
  • Three inscriptions of ruler Vigraharaja-IVth (11th century) are also mentioned on the pillar of Topra.
  • Topra inscription was transferred by Firoz Shah Tughlaq to Delhi.
  • An inscription written in Kharosthi script has been found in Karnal.
  • An incomplete inscription have been found in Kapal mochan area of Haryana.
  • Raja Devanka wrote about the glory of Kurukshetra in an inscription of Laos country.
  • An inscription has been found from Sirsa which has mention of Pashupati community of this place.
  • All the seven notes of music have been mentioned in the inscription which has been found in Agroha.
  • An inscription, found from Hansi is associated with Prithviraj-II.
  • According to an inscription which has been found in Ladnu (Rajasthan), Delhi was the capital of Haryana.
  • Eight inscriptions have been found from a pillar which is located in Gujri Mahal in Hisar.
  • It has mention about Gods which came from eight different places.
  • A rock inscription of Pratihara king, Mahendra Pala, has been found at Pehowa which has mention of construction of temples.

Haryana GK Ancient history of Haryana

Archaeological Excavations

  • Palaeolithic tools have been found from the ancient places of Pinjore-Kalka region in Haryana.
  • Rakhigarhi is an ancient place which is located in Hisar district.
  • It is the second largest site of Indus Valley Civilisation, after Mohenjodaro.
  • Banawali is a small village of Fatehabad district of Haryana.
  • Its excavation was started in 1974 where many important archaeological evidences have been found.
  • Many relics of pre-Harappan culture and civilisation have been found form Mitathal (Bhiwani).
  • Many relics of Hakra Culture and pre-Harappan culture have been found in Bhinhada, in Fatehabad district.
  • Black-shiny clay pots of Later Vedic Period have been found from Sugh, Stupa of Thanesar, Hisar and Topra.

Monetary Sources

  • Many stamps have been found from Khokhrakhot, Achched, Paharipur, Mohanbadi, Aurangabad, Agroha, Rakhigarhi, Sugh, Karnal, etc.
  • These stamps were used to mint coins.
  • Coins, which have been found after excavation have mark of Kartikeya, a Yaudheya ruler, on them.
  • Jaymandhar’is engraved on a coin which has been found in Sunet (Ludhiana).
  • This coin is a symbol of success of Kartikeya, a Yaudheya ruler.
  • Coins of Kumaragupta period show that Yaudheya Religion (Kartikeya) became the states religion.
  • There was another important group of Kuninda rulers.
  • These people resided in the Shiwalik hills.
  • Their coins depicted Laxmi, Deer and Shiva along with a prong.
  • Indo-Greek coins and Punch marked coins have been discovered from the mounds of Hisar and Agroha.
  • Copper coins of Harsha period and Indo Greek’s Dirham have been found in Sonipat.
  • Other Sources Indus valley colonies were found along the two ancient and sacred rivers of Haryana, namely, Saraswati and Drishadvati rivers.
  • Shiva ‘Mukhalingam’ have been found in Kiloi village of Rohtak district (first in sculptural art) and Beri village of Jhajjar district.
  • These Mukhalingam are engraved on spotted red stone.
  • Many important artefacts have been found in the state like Boar of Rohtak (Gupta Period), Vishnu of Kosli, Harihar of Bans-Petwar, Buddha of Jhajjar and boar of Hansi, etc.
  • Dihole inscription has description about the war between Harshavardhana and Pulakeshin (630-634 CE).
  • Two temples which looks like peak have been discovered in Kalayat of Haryana which are made of later Gupta period bricks.
  • These temples resemble of the period between pre-historic and medieval times.

Relics and their Source

Haryana GK Ancient history of Haryana
Haryana GK Ancient history of Haryana

Ancient History of Haryana

  • As per the historical sources, the ancient histroy of Haryana can be divided into three different parts, i.e. pre-historic, proto-historic and historic periods.

(1) Pre-historic Period

  • The period which has no written evidences is known as “pre-historic period.
  • The com relics of the pre-historic period give information about Haryana state.
  • This period is divided into three different periods as:

Palaeolithic Age

  • Stone tools of this period have been found in Pinjore, Dhamli, Suketari, Ahiya, Paplina near Kulka, Chandigarh, Firozpur, Jhirka, Kotla and Sohan valley.
  • These are made of small, flat and rounded stones.

Neolithic Age

  • In this period, human had started the practice of agriculture.
  • The evidences of the agriculture have been found from Siswal.
  • Thus, this civilisation is also named as Siswal civilisation/culture.

Chalcolithic Age

  • Copper tools of this period have been found in some parts of Rohtak and Hisar districts of Haryana.

(2) Proto-historic Period

  • It was the age before the historical period, when the script and letters were known to the people of the time but we could not read it, thus this period is known as a ‘Proto-historic Period’.
  • It includes Siswal culture, Hakra culture and Indus Valley Civilisation.
  • Relics of this period have been found in Haryana

Siswal Culture

  • It was a Chalcolithic culture dating around 3800 BCE.
  • It is also known as Sothi-Siswal Culture.
  • The excavation work was done in Siswal village under the supervision of Dr Surajbhan and many relics of Siswal culture were found in 1968.
  • Important places related to Siswal Culture are as follows:
  • Hisar —-Siswal, Salimgarh, Shahpur, Patan, Satrod Khurd, Alipur, Sisai, Data, Pali, Rakhigarhi
  • Sirsa/Fatehabad —-Bani, Talwada, Rattiba, Chimu
  • Bhiwani –Dadri, Manhedu. Rewari Badli, Lohar, Badhsa.
  • Gurugram –Alduka, Sultanpur, Mukola, Gokalpur, Mundehra, Papra.

Hakra Culture in Haryana

  • The period of Hakra culture in Haryana is considered before the period of Harappan Civilisation dating between 3300-2800 BCE.
  • This basically represent the development of farming community, thus this is also known as Early Farmer’s Culture.
  • The evidences of this culture have been found in the drainage area of the Ghaggar Hakra river thus, it is also known as Hakra culture.
  • Kunal is the first excavated site from where the evidences of Hakra culture have been found.

Indus Valley Civilisation/Harappan Civilisation

  • Important centres of Indus Valley Civilisation in the state are as follows :

Banawali

  • Banawali is the important place of Indus Valley Civilisation which is located in the ancient river valley of Saraswati in Fatehabad district, Haryana.
  • It was discovered by RS Bisht in 1973-74.
  • A striking animal posture has been found in this place which has the body of lion and horns of bulls.
  • Besides, other evidences of this period have been found in this place like a clay toy (Plough), signs of wheels of Bullockcart, evidences of barley, two terracotta sculptures of ‘Matra devi’ and evidences of five vans.
  • Relics which have been found from Tigdana village of Bhiwani district in 2016, show the evidence of Industrial and Trade Centres.

Rakhigarhi

  • This archaeological site is located on the right bank of Rigvedic Drishadvati river in Narnaund block in Hisar district.
  • Many pre-Harappan and mature Harappan evidences have been found from this place.
  • It is also an important centre of Siswal Culture.
  • It is the largest Indus Valley Civilisation site followed by Mohenjodaro.
  • It was excavated by Dr Amrendra Nath from 1997 to 2000.
  • Other evidences have also been found from this place like houses, pottery and tod ornaments made form some precious stones.

Mitathal

  • This village is located in Bhiwani district which was excavated by Dr Surajabhan in 1967-68.
  • Coins of Gupta and Kushana periods have also been found from this place.

Madina

  • This village is located in the central block of Rohtak district.
  • It was excavated in 2007-08 under the supervision of Dr Manmohan Kumar. Bhirrana
  • This village is an archaeological site which is located on the left bank of Saraswati river in Fatehabad district.
  • It was excavated in the year 2003-04.

Bhagwanpura

  • This village is located in Kurukshetra district.
  • This site is notable for showing an overlap between late Harappan period and painted Grey Ware culture of vedic age.
  • This area thus can be considered as the junction of two great civilisations of India.

Farmana Khas (Daksha-Khera)

  • It is located in Rohtak district which comes after Rakhigarhi in the list of archaeological sites of Harappan Civilisation.
  • It is the largest burial site of the civilisation with 65 burials found in India.
  • Alabaster seals have also been found in this place.
  • Other archaeological sites of Harappan civilisation are Kunal village (Fatehabad), Balu village (Kaithal), and Girawar village (Rohtak).

(3) Historical Period

  • The period when all the recorded history of that period can be read, is known as ‘historical period’.
  • The relics of this period give information about Haryana state.
  • It includes the following periods :

Rigvedic Period (1500-1000 BCE)

  • Vedic Civilisation made its beginning along the river Saraswati in the region of modern day Haryana and Punjab.
  • It is believed that the Vaivas to Manu, the origin of the human race, was the king of this state.
  • Among the four sons of Manu (Ikshvaku, Parashu, Sudhaman and Sharyati),area above the Saraswati was the workplace of Sudhaman (includes Ambala- Kurukshetra) and the area which situated along the border of Rajasthan was under the Sharyati.
  • Puru clan was established after the name of ‘Puru’, the son of King Yayati and its capital was Hastinapur.
  • Dushyant was one of the king of Puru clan lineage and his descendant was Bharata after whom India got its name ‘Bharat’.
  • A battle between Puru ruler Sudas and ten tribal kingdoms on the bank of Parusni river took place which is known as ‘Battle of the Ten Kings’.
  • In this battle, Sudas defeated all the kingdoms.
  • Kuru was a branch of ‘Puru’but after defeated by Sudas, the Kuru kings went on the Indo-Iranian regions and settled there.
  • Panchalas of Ganga valley invaded into Haryana and defeated the Puru King Samvarana, who later exiled with his family.
  • But the Puru King regained Haryana with the help of Kurus, who became very strong in the regions lying along the border of India and Iran.

Later Vedic Period (1000-600 BCE)

  • Kuru clan was established by King Kuru.
  • Its capital was Indraprastha.
  • King Kuru defeated the Panchalas and captured the Saraswati region and renamed it as ‘Kurujangaľ.
  • It was later renamed as Kurukshetra.
  • Gandharas also invaded Haryana but they were defeated by Kuru King Shantanu.
  • In the same period, Mahabharta War’ took place between Kauravas and Pandavas.
Haryana GK Ancient history of Haryana
Haryana GK Ancient history of Haryana

Mahajanapada Period

  • In the later Vedic Period, tribal states were replaced by territorial states and they were developed in the 6th century BCE.
  • Thus, many big states came into existence.
  • The Buddha test ‘Anguttar Nikaye’ has mention of 16 Mahajanapadas, and one of these is ‘Kuru’which had some areas of Haryana.
  • Meerut, Delhi and Thaneshwar were a part of Kuru Mahajanapada and its capital was Hastinapur during Mahabharata Period.

A Mauryan Period

  • This dynasty was established by Chandragupta Maurya which also had Haryana as his territory.
  • Topra pillar inscription in Ambala is the evidence of this fact.
  • Asoka also constructed a Stupa in Thaneshwar which has relics of Mahatma Buddha.

Yaudheya Period

  • Yaudheyas came after Mauryans.
  • Yaudheya clan was founded by Yaudheya which is mentioned in ‘Drona Prav’in Mahabharata.
  • It is also mentioned in the grammar treatise of Panini i.e. ‘Mahabhashya’ in the form of ‘Ayudhjivi.
  • Puranas have to go described Yaudheyas as the descendants of Usinara and Nrigu.
  • A rock inscription of Junagarh has mentioned about Yaudheya clan.
  • Coins, which have been found from Naurangabad in Bhiwani district, depict ‘Yaudheyana Bahudhunya’, which is written in Brahmi script.
  • Haryana was known as Bahudhanyaka during Yaudheya period.
  • Coins of Yaudheya clan have been discovered by captain Kotley from Behat village near Saharanpur, and by Caningham from Sonipat in 1834. Similar coins have also been found in Hansi, Kharkhoda, Sirsa, Hisar, Rohtak, Sonipat, Gurugram and Karnal.
  • It is known form the scripture of Vijaygarh that king himself was the DA Supreme Commander.
  • Their coins depict the name of ‘Brahmana Deva’, which means ‘Kartikeya’.
  • He was the adorable god of Yaudheya region.

Agar Period

  • Coins which have been found in Barwala and Agroha (Hisar) show that Hisar was a seat of Agar Republic and its capital was Agroha.
  • It is also mentioned in Ashtadhyayi, Baudhayana Sutras and Mahabhashya.
  • This republican state was ruled by Maharaja Agrasena.

Kuninda and Arjunayanas Period

  • Kuninda kingdom was located in Ambala district.
  • Kuninda kingdom had the republican system similar to Yaudheyas and Agar republican states.
  • Kunindas along with Yaudheyas expelled the Kushanas from India.
  • Arjunayana Republic was located in some areas of Rajasthan and Mahendragarh of Haryana.
  • According to Dr Altekar, the currency of that period depicted a word ‘Dwi’ which was a sign of merging of Yaudheyas and Arjunayanas.

Gupta Period

  • It is revealed from Allahabad Pillar Inscription (Prayag Prashasti) that the Gupta ruler, Samudragupta subdued the Yaudheya republican state into Gupta Empire.

Vardhana Dynasty

  • A commander, named Pushyabhuti, founded an independent state (in Thanesar) during 6th century AD which was known as “Vardhana dynasty’.
  • Thanesar (Sthanishvara) was the capital of this dynasty.
  • There are six well-known rulers of this dynasty such as Naravardhana, Rajyavardhana-I, Adityavardhana, Prabhakaravardhana, Rajyavardhana-II and Harshavardhana.
  • Harshavardhana defeated the Huna ruler and Gauda ruler Shashanka.
  • Harsha shifted his capital from Thanesar to Kanyakubja.
  • After the death of Harshavardhana, ‘Yadu’ and ‘Kadu’clans were risen in Haryana.
  • Kurukshetra was ruled by Kurus and the South-Western part was ruled by ‘Yadu’ rulers.
  • During the reign of Harshavardhana, the Chinese Traveller Xuan Zang visited his court and wrote about the power and glory of Thanesar in his account.

Gurjara-Pratihara Period

  • After the death of Harshavardhana, Haryana went into the hands of Gurjara-Pratiharas.
  • The Pratihara ruler, Nagabhatta-II made his rule strong over Haryana.
  • During the reign of Mihira Bhoja, the ruler of the Gurjara-Pratihara dynasty, Pehowa was a big trading centre of the Northern India, which was famous for horse trade.

Ancient Names of Some Districts /Towns of Haryana

Haryana GK Ancient history of Haryana
Haryana GK Ancient history of Haryana

 

पुरातात्विक स्रोत शिलालेख/अभिलेख

  • सर एलेक्जेंडर कनिंघम द्वारा सन 1861 में भारतीय पुरातत्व विभाग की स्थापना की गई।
  • सर कनिंघम ने ही पहली बार सन् 1862 में हरियाणा क्षेत्र का अन्वेषण किया था।
  • वर्तमान में कुल 37 अभिलेख हरियाणा से प्राप्त हो चुके है।
  • इनमें टोपरा स्तम्भ लेख प्राप्त सर्वाधिक प्राचीन (राज्य से प्राप्त) लेख है।
  • टोपरा स्तम्भ लेख की भाषा प्राकृत और लिपि ब्राह्मी है।
  • इस अभिलेख का सम्बन्ध मौर्य काल (सम्राट अशोक द्वारा निर्मित) से है।
  • अम्बाला से प्राप्त अभिलेख खरोष्ठी में अंकित है, जिसका सम्बन्ध तालाब निर्माण से है।
  • सम्भवतः दूसरी शताब्दी ई. पूर्व निर्मित अभिलेख सुध से प्राप्त हुआ है, जो बारहखड़ी लिपि का भारत में प्राचीनतम उदारहण माना जाता है।
  • कपालमोचन से प्राप्त अभिलेख को अधूरा माना जाता है।
  • ‘लाओस’ से 5वीं-6वीं सदी के प्राप्त अभिलेख में, वहाँ के महाराज देवंका द्वारा कुरूक्षेत्र का प्रशस्तिगान किया गया है।
  • पेहोवा से प्राप्त भोजदेव के अभिलेख से स्पष्ट होता है कि पेहोवा घोड़ों के व्यापार हेतु प्रसिद्ध था।
  • पिंजोर से प्राप्त अभिलेख से स्पष्ट है कि पिंजोर को पूर्व में पंचमपुर कहा जाता था।
  • यहाँ से तीन अभिलेख प्राप्त हुए हैं।
  • अग्रोहा और हिसार से 6वीं सदी ई. पूर्व के पंचमार्क (आहत) सिक्के और इंडोग्रीक (हिन्द यवन के) सिक्के प्राप्त हुए हैं।
  • कलायत नामक स्थान से ईंटों से निर्मित (उत्तर गुप्त कालीन) शिखर युक्त मंदिरों के अवशेष प्राप्त हुए है, जो काफी प्राचीन प्रतीत होते हैं।
  • लाडनूं से प्राप्त (राजस्थान, जोधपुर) अभिलेख से जानकारी प्राप्त होती है कि दिल्ली, हरियाणा की राजधानी थी।
  • यह अभिलेख तोमर शासकों से सम्बन्धित है।
Haryana GK Ancient history of Haryana
Haryana GK Ancient history of Haryana

मुद्राएँ/सिक्के/मूर्तियाँ

  • राखीगढ़ी, करनाल, औरंगाबाद, खोखराकोट, मोहनबाड़ी पहाड़ीपुर, अग्रोहा आदि जैसे अनेक स्थानों से मुद्राएँ प्राप्त कर सिक्के इतिहास निर्धारण में महत्वपूर्ण साबित होते हैं। •
  • सोनीपत से प्राप्त हर्षकालीन मुद्रा दिरहम (ताम्र मुद्रा) से पुष्यभूतियों के वंश की जानकारी मिलती है।
  • अग्रोहा से प्राप्त कुछ सिक्कों में कार्तिकेय (यौधेय शासक) को एक विजेता के रूप में अंकित किया गया है।
  • कुमारगुप्त कालीन सिक्कों/मुद्राओं से पता चलता है कि यौधेय धर्म राजधर्म का रूप ग्रहण कर चुका था।
  • एक मुद्रा पर (सुनेत से प्राप्त) यौधेय शासक (कार्तिकेय) के लिए जयमंधार शब्द अंकित है, जिसका अर्थ ‘विजयी’ होता है।

साहित्यिक स्रोत

  • साहित्यिक स्रोत का वर्णन निम्नलिखित हैं

धार्मिक/धर्मेत्तर साहित्य

  • वैदिक साहित्य से तात्पर्य वेद, ब्राह्मण, अरण्यक उपनिषद आदि ग्रन्थों से है, जो हमारे प्राचीन काल के सामाजिक, राजनीतिक एवं आर्थिक जीवन की जानकारी देते हैं।
  • जैन और बौद्ध साहित्य से भी राज्य (हरियाणा) के तत्कालीन सामाजिक, राजनीतिक और धार्मिक आदि स्थितियों की जानकारी प्राप्त होती है।

महत्वपूर्ण तथ्य

Haryana GK Ancient history of Haryana
Haryana GK Ancient history of Haryana

प्रागैतिहासिक/आद्यऐतिहासिक काल

पाषाणकाल (10 लाख-1500 ई. पू. तक)

  • इस काल के अन्तर्गत
  • सोहन घाटी की सभ्यता,
  • सीसवाल सभ्यता,
  • हकड़ा संस्कृति एवं
  • हड़प्पा सभ्यता आदि शामिल हैं।
  • इस समय के प्राप्त औजार प्रारम्भ में प्रस्तर निर्मित भारी, खुरदरे, कम धारदार थे। जो बाद में अपेक्षाकृत बेहतर, कम वजनी, धारदर छोटे (माइक्रोलिथ) और आगे चलकर कांस्य निर्मित होने लगे।
  • उदारहणार्थ- हस्तवढ़ार, विदरणी (क्लीवर) ब्लेड, बेधक, खुरचनी, हंसियाँ, ब्यूरिन आदि थे।
  • इस काल के उपकरण फिरोजपुर, चंडीगढ़, कोटला, रोहतक, हिसार, रेवाड़ी, फतेहाबाद, भिवानी, राखीगढ़ी, सलीमगढ़ आदि स्थानों से प्राप्त हुए हैं।
  • सन 1968 में सीसवाल संस्कृति की खोज (राज्य में) डॉ. सूरजभान के नेतृत्व में की गई।
  • इस संस्कृति से सम्बन्धित स्थलों में गुड़गांव, सिरसा, हिसार, फतेहाबाद, भिवानी, रेवाड़ी आदि प्रमुख हैं।
  • सीसवाल संस्कृति काफी उन्नत अवस्था में थी, जहाँ बैल, गाय, कुत्ता, बकरी तथा सूअर आदि पशुओं का पालन होता था।
  • दूध का प्रयोग इसी संस्कृति में शुरू हुआ, जो इसकी महत्वपूर्ण विशेषता थी।
  • सीसवाल एक कृषि प्रधान सभ्यता थी।
  • यहाँ के लोग रूई, ऊन और पशुओं की खाल से वस्त्र निर्मित करते थे।
  • इस संस्कृति में सामाजिक-पारिवारिक संस्थाओं के अलावा धर्म की नींव पड़ चुकी थी।
  • इस संस्कृति के लोग नीग्रो-ऑस्ट्रेलायड से सम्बन्ध रखते थे, जिनका रंग काला, कद छोटा तथा बाल धुंघराले होते थे।

हड़प्पा सभ्यता (2500-1750 ई.पू.)

  • सर जॉन मार्शल के सहयोग से दयाराम साहनी द्वारा सन् 1921 में इस सभ्यता की खोज की गई।
  • इसे सिंधु घाटी सभ्यता के नाम से भी जाना जाता है।
  • इसका काल कार्बन-14 पद्धति के आधार पर 2500-1750 ई. पूर्व माना जाता है।
  • सर्वप्रथम राबर्ट ब्रुश फूट ने 1863 में तमिलनाडु स्थित (पल्लावरम में पुरापाषाण कालीन औजारों का पता लगाया।
  • डॉ. गार्ड पिलग्रिम ने चंडीगढ़-पिंजोर से प्राप्त एक मानव खोपड़ी को 1.5 करोड़ वर्ष पुराना आद्यऐतिहासिक मानव का बताया है।
  • मध्यपाषाण युग में औजार परिष्कृत व छोटे थे, जिन्हें माइक्रोलिथ (लघु अश्म) कहा जाता था।
  • राज्य से प्राप्त पुरापाषाणकालीन औजारों में कुल्हाड़ी, तक्षणी, बेधक, गंडासे, ब्लेड आदि प्रमुख हैं।
  • पिंजोर-कालका के निचले हिस्से से नवपाषाण युगीन अवशेष प्राप्त हुए है।
  • सीसवाल संस्कृति (हिसार) के लोगों द्वारा ही सर्वप्रथम दृषद्धती नदी घाटी में बसने का कार्य किया गया।
  • हरियाण के महेन्द्रगढ़ जिले से इस संस्कृति की बस्तियों के अवशेष प्राप्त हुए हैं।
  • सीसवाल संस्कृति का उदय 2500 ई. पूर्व लगभग माना जाता है।
  • कृषकों द्वारा विकसित करने के कारण इसे कृषक सभ्यता माना जाता है।
  • हड़प्पा को कांस्ययुगीन सभ्यता भी कहते हैं।
  • इसके निवासियों को भू-मध्यसागरीय एवं द्रविड़ माना जाता है।
  • सैंधव घाटी के अवशेष सर्वप्रथम राज्य में सरस्वती नदी घाटी और दृषद्धती नदी घाटी से प्राप्त हुए हैं।
  • हरियाणा स्थित दौलतपुर के नमनों से स्पष्ट होता है कि इस नगर की बसावट ग्रिड पद्धति पर आधारित थी।
  • दौलतपुर से हमें खिलौने, चूड़ियों, बर्तनों, घर आदि के अवशेष प्राप्त हुए है।
  • इस सभ्यता के पतन के प्रमुख कारणों में बाढ़, आर्यों का आक्रमण, सखा, भूकम्प, जलवायु परिवर्तन, व्यापारिक पतन आदि को माना जाता है।

हडप्पा संस्कृति

  • हाकड़ा संस्कृति, हड़प्पा सभ्यता के पूर्व की मानी जाती है।
  • इसे आरंभिक कृषक संस्कृति भी कहते हैं।
  • हाकड़ा नदी (झज्जर नदी पाकिस्तान में) के तट पर अवस्थिति होने के कारण इसे हाकड़ा संस्कृति कहा गया।
  • सर्वप्रथम कुणाल (फतेहाबाद) नामक स्थल से इस संस्कृति के साक्ष्य प्राप्त हुए हैं।

सिंधु घाटी सभ्यता के प्रमुख स्थल (हरियाणा से प्राप्त)

सीसवाल (हिसार)

  • खोजकर्ता – डॉ. सूरजभान
  • प्रमुख अवशेष – हथियार (गंडासे) चुडियाँ, तांबे के मनके आदि प्राप्त हुए है।
  • यह कृषि प्रधान सभ्यता थी।
  • हिसार के एक गाँव के पुरानी खोह से सर्वाहिक प्राचीन संस्कृति के अवशेष मिले हैं।

मिताथल (भिवानी)

  • खोजकर्ता -डॉ. सूरजभान (1967-68)
  • यहाँ से गुप्त एवं कुषाणों के सिक्के प्राप्त हुए हैं।
  • तांबे के 15 छल्ले (रिंग) एवं 2 भाले प्राप्त हुए है।

बनावली (फतेहाबाद)

  • खोजकर्ता-आर.एस.विष्ट (1973-74)
  • अवशेष- एक अनोखा पशु मुद्रा, जिस पर धड़ सिंह का और सींग बैल की तरह है।
  • इस पर लेख उत्कीर्ण है, जो पढ़ा नहीं जा सका है।
  • मिट्टी के खिलौने, सड़कों पर बैलगाड़ी के पहिए के निशान, मातृदेवी की मृणमूर्ति, अग्निवेदी, सोने, ताँबे के टुकड़े आदि साक्ष्य प्राप्त होते है।

दौलतपुर (कुरूक्षेत्र)

  • खोज – 1968-80 में
  • अवस्थिति-चौतंग नदी के किनारे

राखीगढ़ी (हिसार)

  • खोजकर्ता-डॉ.अमेन्दुनाथ (1997 ई.)
  • हडप्पा सभ्यता का सबसे बड़ा नगर स्थल।
  • सीसवाल संस्कृति का प्रधान केन्द्र और दृष्दती नदि के दाएँ तट पर अवस्थित।

भगवानपुरा (कुरूक्षेत्र)

  • खोजकर्ता-जगपति जोशी (1976-77)
  • उत्तर हड़प्पा संस्कृति एवं चित्रित धूसर मृदभांड का साक्ष्य मिला है।
  • यहाँ से हड़प्पा के लोगों और आर्यों के एक ही बस्ती में रहने का साक्ष्य प्राप्त हुआ है।

मदीना (रोहतक)

  • उत्खननकर्ता-मोहन कुमार (2007-08)

बाबू (कैथल)

  • उत्खननकर्ता -डॉ. सूरजभान (1979)
  • यहाँ से दक्षिण एशिया में लहसुन का प्राचीनतम साक्ष्य प्राप्त होता है।

कुणाल (फतेहाबाद)

  • उत्खननकर्ता-जे.एस स्व बी. आर. मनी और बनानी भट्टाचार्य
  • सरस्वती नदि तट पर स्थित, हाकाड़ा सभ्यता का सबसे बड़ा स्थल है।
  • अवशेष – मछली पकड़ने के कांटे, स्वर्ण-चांदी के आभूषण, चित्रित मृदभांड।

फरमानाखास (रोहतक)

  • राखीगढ़ी के बाद दूसरा सबसे बढ़ा स्थल।
  • दूसरा नाम दक्षखेड़ा भी है।
  • अवशेष सेलखड़ी की मोहरें तथा कब्रिस्तान

भिड़राणा (फतेहाबाद)

  • उत्खननकर्ता-एल.एस.राव (2005-06)
  • सरस्वती नदि तट पर स्थित, हड़प्पा का सबसे प्राचीन (राज्य में) स्थल।

गिरावाड (रोहतक)

  • उत्खननकर्ता-विवेक दाँगी (2006) |
  • अवशेष – मृदभांड पकाने की भट्टी, 13 निवास गर्त, प्राप्त हुए है।

Haryana GK Ancient history of Haryana

ऐतिहासिक काल

वैदिककाल (ऋग्वैदिक काल : 1500-1000 ई.पू.)

  • 1500 ई. पू. से 600 ई. पू. तक के काल को वैदिककाल माना जाता है।
  • इसे ऋग्वैदिक (1500 ई. पू.-1000 ई.पू) और उत्तर वैदिककाल (1000 ई. पू. – 600 ई. पू.) में बांटा जाता है।
  • वेद (ऋग्वेद, सामवेद, अथर्ववेद, यजुर्वेद) ब्राह्मण, अरण्यक, उपनिषद आदि इस काल के प्रमुख साहित्यक स्रोत है।
  • सर्वप्रथम आर्यों का आगमान ऋग्वैदिक काल में हुआ।
  • अतः इसे आर्य सभ्यता की शुरुआत भी कहते हैं।
  • वैदिक काल एक ग्रामीण सभ्यता थी जबकि हड़प्पा एक शहरी सभ्यता मानी जाती है।
  • आर्य का शाब्दिक अर्थ है-श्रेष्ठ, कुलीन, अभिजात्य, उत्कृष्ट आदि।
  • बाल गंगाधर तिलक द्वारा लिखित पुस्तक ‘आर्कटिक होम ऑफ वेदाज’ में वर्णित है कि भारतीय उप-महाद्वीप में आर्यों का आगमन लगभग 6000 ई. पू. में आर्कटिक प्रदेश से हुआ है।
  • प्रौ. मैक्समूलर और मैकडॉनल्ड आर्यों के आगमन को 1500 ई. पू. से 1000 ई. पू. तक मानते हैं।
  • जबकि फ्रांसीसी विद्वान जैकोबी और लेवी के मतानुसार आर्य सभ्यता की शुरुआत 5000 ई. पू. से 4000 ई. पू. तक मानी जाती है।
  • अधिकांश विद्वानों का मानना है कि हरियाणा आर्य सभ्यता का प्रथम केन्द्र था।
  • पूर्व से रह रहे आदिवासियों को दास या दस्यु कहा जाता था। ऐसे जनों में हरियाणा के पणि लोग प्रसिद्ध थे।
  • आर्यों के साथ इन दास/दस्य का टकराव हआ। सम्भवतः इन दास (पणियों का) का निवास स्थान पानीपत रहा था।
  • मनु वैवस्वत आर्यों के पहले महान राजा हैं।
  • इनके चार पुत्र थे– इक्ष्वांकु, परशु, सुधुम्न और शर्याति।
  • इनमें सुधुम्न एवं शर्याति का सम्बन्ध हरियाणा से था।
  • सुधुम्न का उत्तराधिकारी पुरूखा, पुरूखा का आयु, आयु का माहूष और माहूष का प्रसिद्ध उत्तराधिकारी हुआ राजा ययाति।
  • राजा ययाति के पाँच पुत्र हुए-यद्ध तुर्वस, द्रुह, अणु और पुरू।
  • प्रतापी राजा पुरू द्वारा हरियाणा में पुरू वंश की स्थापना की गई।
  • इसी पुरू वंश के महान राजा दुष्यंत हुए।
  • दुष्यंत के पुत्र भरत महान प्रतापी राजा हुए।
  • चक्रवर्ती राजा भरत के नाम पर ही देश का नाम भारत पड़ा।
  • आगे चलकर भारतवंश में त्रित्सु नामक महान राजा हुए, जिनके वंश को त्रित्सु वंश कहा गया।
  • दिवोदास इसी वंश का महान प्रतापी राजा था। •
  • पुरू वंश के शासक सुदास और दस राजाओं के संघ के मध्य पुरुषनी (रावी) नदी तट पर युद्ध लड़ा गया, जिसे दासराज्ञ युद्ध कहा जाता है।
  • राजा सुदास इस युद्ध में विजयी हुआ।
  • इस युद्ध का उल्लेख ऋग्वेद के 7वें मंडल में हुआ है।
  • सुदास अंतिम महान भरतवंशी शासक था।
  • इसके बाद त्रित्सु वंश का पतन होने लगा।
  • प्रददस्यु ने हरियाणा पर आक्रमण कर तृत्सुओं को हराया और राज्य पर सत्ता स्थापित की।
  • कालांतर में पुरू वंशी शासक कुरूश्रवण के उत्तराधिकारी राजा शामवर्ण को परास्त कर, पंचाल नामक जन ने हरियाणा पर आधिपत्य कायम किया।

उत्तर वैदिककाल (1000 ई. पू. – 600 ई.पू.)

  • इसे लौह युगीन सभ्यता भी कहते हैं, क्योंकि 1000 ई. पू. तक उत्तर भारत में लोहे की खोज हो चुकी थी।
  • लोहे की खोज ने तयुगीन सामाजिक-आर्थिक जीवन में क्रांतिकारी परिवर्तन किए, इससे कृषि का विस्तार हुआ और व्यापारिक गतिविधियाँ बढ़ी।
  • राजा शामवर्ण द्वारा पुनः पांचालों को पराजित कर हरियाणा पर अधिकार कर लिया गया और शामवर्ण के पश्चात कुरू हरियाणा का शासक बना।
  • कुरूश्रवण ही ऋग्वेद में उल्लेखित कुरू है, इसे त्रसदस्यु का वंशज कहा गया है।
  • कुरू के नाम पर ही इस राज्य का नाम कुरूक्षेत्र पड़ा है।
  • राजा शांतनु कुरू वंश के ही प्रतापी महान शासक थे।
  • देवव्रत (भीष्म), चित्रांग, विचित्रवीर्य इनके तीन पुत्र थे।
  • कौरवों और गांधारों के मध्य लड़े गए युद्ध को ही कुरूक्षेत्र का प्रथम युद्ध कहा जाता है।
  • इसी समय पंचालों से लड़े गए युद्ध में कौरवों ने विजय प्राप्त की।
  • कौरवों और पांडवों के मध्य राज्य का विभाजन बराबर-बराबर हुआ। इसमें गंगा-यमुना का मध्य भाग कौरवों के हिस्से जबकि हरियाणा वाला क्षेत्र पांडवों के हिस्से आए।
  • पांडवों ने इंद्रप्रस्थ (दिल्ली) और कौरवों ने हस्तिनापुर को राज्य की राजधानी बनाया।
  • कालांतर में कौरवों-पांडवों के मध्य राज्य को लेकर महाभारत युद्ध लड़ा गया।
  • महाभारत को दुनिया का सबसे बड़ा महाकाव्य का दर्जा प्राप्त है, जो 18 पर्वो में बँटा है।
  • इसमें करीब 10000 श्लोक है। गीता का उपदेश इसी मे वर्णित है।
  • कृष्ण के शंख को पाश्चाजन्य, अर्जुन का शंख देवदत्त, भीम का शंख पौंडा, युधिष्ठिर का शंख अनंतविजय, सहदेव का शंख पुष्पक, नकुल का शंख सघोषमणि कहा जाता था।
  • युद्ध के बाद युधिष्ठिर का उत्तराधिकारी राजा परीक्षित (अभिमन्यु का बेटा) हुआ।
  • राजा परीक्षित ने सम्पूर्ण राज्य को तीन हिस्सों क्रमश: कुरूक्षेत्र, हस्तिनापुर, कुरूजांगल में बांटा।
  • यह कुरूजांगल ही वर्तमान का कुरूक्षेत्र कहलाता है।
  • महाभारत युद्ध में अभिमन्यु जिस स्थान पर वीरगति को प्राप्त हुआ था, उसे अमीन और भूरिश्रवा के वीरगति स्थान को भोर कहा जाता है।
  • युद्ध के बाद जिस स्थान पर चिताओं की अंत्येष्टि की गई थी उसे अस्थिपुर कहा जाता है।
  • उत्तरवैदिक काल में जाटों का आगमन हरियाणा में हुआ। इन्हें मूलतः जाक्सटर्स घाटी के उत्तरी गोलार्द्ध का निवासी माना जाता है।
  • महाभारत में इन्हें जर्त या जार्तिक कहा गया था।

Haryana GK Ancient history of Haryana

हरियाणा के प्रमुख जैन और बौद्ध स्थल

पिंजौर

  • जैन धर्म का प्रमुख केन्द्र
  • यहाँ से प्राप्त मूर्तियों में चन्द्रप्रभा, पार्श्वनाथ तथा महावीर आदि की मूर्तियाँ प्रमुख हैं।

टोपरा (अम्बाला)

  • अशोक द्वारा निर्मित प्रस्तर लाट और बौद्ध विहार के अवशेष प्राप्त।
  • नगर. के चारों ओर किलेबंदी के प्रमाण प्राप्त हुए है।

अग्रोहा

  • बौद्ध धर्म का प्रमुख केन्द्र।
  • बौद्ध विहार, स्तूप का अवशेष प्राप्त।
  • सम्राट अशोक द्वारा कुणाल में प्रस्तर लाट की स्थापना।

थाणेश्वर (कुरूक्षेत्र)

  • यहाँ 300 फूट ऊँचा अशोक कालीन एक स्तूप था, जिसमें बुद्ध की धातु निर्मित प्रतिमा रखी थी।
  • ह्वेनसांग के अनुसार यहाँ तीन संग्रहालय थे, जिनमें करीब -. 700 बौद्ध भिक्षु निवास करते थे।
  • यहाँ ब्राह्मण धर्म ज्यादा प्रभावी था।

सुध (यमुना नगर)

  • भगवान बुद्ध ने यहाँ आकर उपदेश दिया था।
  • यहाँ के स्तूप में महात्मा बुद्ध के बाल एवं नाखून संरक्षित है।
  • शहर के पश्चिम में स्थित स्तूप में सारिपुत्र आचार्य मौदग्लयान के नाखून एवं बाल संरक्षित है।
  • ह्वेनसांग के अनुसार यहाँ के पाँच बौद्ध विहारों में 1000 बौद्ध भिक्षु रहते थे।
  • यमुना के समीप अशोक ने एक भव्य स्तूप निर्मित किया था।

हाँसी

  • यहाँ से कई प्रतिमाएँ प्राप्त हुई है इनमें भूमि स्पर्श बुद्ध, जैन स्तूप, ब्रह्मा आदि के अलावा धातु निर्मित यक्ष-यक्षिणि, कुबेर, आदिनाथ, पार्श्वनाथ (जैन तीर्थकर) आदि की प्रतिमाएँ प्राप्त हुई है।

रोहतक

  • जैन धर्म का प्रमुख केन्द्र
  • यहाँ से जैन मातृक, जैन सरस्वती पार्श्वनाथ, महावीर स्वामा की प्रतिमाएँ प्राप्त हुई हैं।

जींद

  • जैन धर्म का प्रधान केन्द्र
  • यहाँ से धातु निर्मित जैन तीर्थंकर
  • आदिनाथ की प्रतिमा प्राप्त।
  • इस प्रतिमा पर नौंवी सदी का एक लेख उत्कीर्ण है।

स्थल बोहरा

  • जैन धर्म का प्रधान केन्द्र . चक्रेश्वरी, शांतिनाथ, पार्श्वनाथ आदि तीर्थकरों की प्रतिमा प्राप्त।

सिरसा

  • जैन धर्म का प्रमुख केन्द्र
  • जैन तीर्थकरों की सिंहासनरूढ़ खंडित मूर्तियाँ प्राप्त।

महाजनपद काल (6वीं सदी ई. पूर्व)

  • छठी सदी ई. पू. तक वैदिक कालीन जनों का विस्तार होकर, यह महाजनपदों में तब्दील होने लगे थे।
  • प्रारम्भ में यह जन कबीला का स्वरूप था, परन्तु इसके क्रमिक विकास के पश्चात इनके स्वरूप में परिवर्तन आया और ये छोटे-छोटे राज्य/गणराज्य का रूप ग्रहण करने लगे।
  • इनके शासकों को राजा कहा जाने लगा।
  • बौद्ध ग्रन्थ अंगुत्तरनिकाय तथा जैन ग्रन्थ भगवतीसूत्र में 6ठीं सदी ई. पू. के 16 महाजनपदों का वर्णन है।
  • इनमें कुरू महाजनपद का सम्बन्ध वर्तमान हरियाणा (थानेश्वर) दिल्ली और मेरठ से था।

Haryana GK Ancient history of Haryana

प्रमुख राज्य/जनराज्यों का प्रार्दुभाव

मौर्य वंश

  • संस्थापक – चन्द्रगुप्त मौर्य
  • स्थापना काल – 322-21 ई. पू.
  • भारतीय उप-महाद्वीप का प्रथम सम्राट चन्द्रगुप्त मौर्य भारत का प्रथम साम्राज्य
  • सम्राट अशोक इस साम्राज्य के सबसे महान शासक माने जाते हैं।
  • इसका शासन काल (269 ई. पू. – 232 ई. पू) तक रहा अशोक ने प्राकृत भाषा और ब्राह्मी, खरोष्ठी, ग्रीक , अरमाइक लिपि का प्रयोग अपने शिलालेखों में किया।
  • अशोक के शिलालेखों का मूल उद्देश्य धम्म का प्रचार-प्रसार करना और जनता में नैतिकता -शुचिता बनाए रखना था।
  • अशोक को अभिलेखों में प्रायः देवनाम प्रिय कहा गया है।
  • भाब्र शिलालेख में अशोक को प्रियदस्सी और मास्की, गुर्जरा अभिलेख में इसे अशोक एवं बुद्धशाक्य नाम से अभिहित किया गया है।
  • दिल्ली-टोपरा से प्राप्त स्तम्भलेख थाणेश्वर से प्राप्त स्तूप, चमकीले मृदभांड अशोक के काल के हैं।
  • शार-ए-कुना अभिलेख दो लिपियों ग्रीक एवं अरमाइक में उत्कीर्ण है।

यौधेय गणराज्य

  • मौर्य वंश के पश्चात यौधेय वंश का उदय हुआ।
  • युधिष्ठिर पुत्र यौधेय को इस वंश का संस्थापक माना जाता है।
  • महाभारत के द्रोण पर्व में इस गणराज्य का उल्लेख प्राप्त होता है।
  • इस गणराज्य में हरियाणा बाहुधान्य के नाम से जाना जाता था।
  • पाणिनीकृत व्याकरण ग्रन्थ अष्टाध्यायी में यौधेय गण को आयुद्धजीवी कहा गया है।
  • जनागढ़ अभिलेख (150 ई. पू.) में भी इस गणराज्य का स्पष्ट वर्णन है।
  • प्रकृतनाथ (भिवानी) यौधेय गणों की राजधानी थी।
  • कुषाण शासक कनिष्क द्वारा यौधेय गण पराजित हुए।
  • सुनेत (लुधियाना) से प्राप्त सिक्के पर ‘जयामंधार गन्धार’ शब्द अंकित है, जो यौधेय शासकों की सफलता को इंगित करता है•
  • युद्ध प्राप्त सिक्कों पर कार्तिकेय (यौधेय शासक) को विजेता बताया गया है।
  • गुप्त वंशी शासक कुमारगुप्त ने अपनी चाँदी के सिक्कों पर मयूर पर बैठे कार्तिकेय के चित्र अंकित/उत्कीर्ण करवाए।
  • कुमारगुप्त ने स्कंद कार्तिकेय मंदिर भी बनवाएँ।
  • कोटले ने सहारनपुर (उत्तर प्रदेश) से सन् 1834 में यौधेय गण के सिक्के प्राप्त किए है।
  • सहारनपुर से प्राप्त ये सिक्के यौधेय गण के खोजे गए सबसे पहले सिक्के थे।
  • सर्वप्रथम कनिंघम ने यौधेय गण के सिक्के खोजे थे।
  • जैजैवती (जींद) से सिक्कों का बहुत बड़ा ढेर प्राप्त हुआ है। सोनीपत से सिक्कों के दो ढेर प्राप्त हुए हैं।
  • खोखराकोट से प्राप्त मुद्रांक (सील) का प्रयोग सिक्कों को ढालने में होता था।
  • खोखराकोट से प्राप्त मुद्रांक की खोज सन् 1936 में बीरबल साहनी ने किया।
  • यौधेय गणराज्य से अनेक कुषाण शासकों के सिक्के की प्राप्ति हुई है। इनमें विमकडफिसस, कनिष्क, हुविस्क आदि है।

कुणिन्द और अर्जुनायन गणराज्य की

  • कुजिन्द गण का क्षेत्र अम्बाला जिला में स्थित है।
  • अर्जुनायन गणराज्य ने यौधेय और कुणिन्दों से मिलकर कुषाणों को हराया था।
  • डॉ. अल्तेकर – यौधेय गण के सिक्कों पर अंकित ‘त्रि’ शब्द यौधेय, कुणिन्द एवं अर्जुनायन के विलय को दर्शाता है।
  • महेन्द्रगढ़ (नारनौल) जिले में अर्जुनायन गणराज्य अवस्थित था। अर्जुनायन गणराज्य की मुद्राओं पर अंकित द्वि’ शब्द यौधेय और अर्जुनायन के विलय को दर्शाते हैं।

अग्र गण्य

  • हिसार से प्राप्त सिक्के से स्पष्ट है कि यहाँ (हिसार) अग्र का गणराज्य विद्यमान था।
  • पाणिनीकृत अष्टाध्यायी में भी यह उल्लेखित है।
  • बौद्धयान के श्रोतसूत्र, पंतजलि का महाभाष्य, अष्टाध्यायी में उल्लेखित है कि राजा अग्रसेन यहाँ के शासक थे।
  • सिकंदर के इतिहासकारों ने अग्रजनों को अगलसोई’ कहा है।
  • अग्रजनों हेतु सिक्कों पर अग्रेय, अग्न आदि जैसे शब्द उत्कीर्ण हैं।
  • कई जगहों पर अग्रजनों के लिए ‘अगोदक’ शब्द मिलता है। बाद में अंगों का विलय यौधेय में हो गया।

पुष्यभूति वंश

  • छठी सदी में पुष्यभूति द्वारा एक स्वतंत्र राज्य के रूप में वर्द्धन साम्राज्य की स्थापना की गई।
  • इसकी राजधानी थाणेश्वर को बनाया गया।
  • इस वंश में 6 ज्ञात शासक हुए – नरवर्द्धन, राज्यवर्द्धन आदित्यवर्द्धन, प्रभाकरवर्द्धन, राज्यवर्द्धन-II, हर्षवर्द्धन।
  • प्रभाकरवर्द्धन इस वंश का सबसे शक्तिशाली शासक था।
  • राज्यवर्द्धन, हर्षवर्द्धन इसके दो पुत्र और राजश्री इसकी एकमात्र पुत्री थी।
  • नरवर्द्धन (505 ई.- 525 ई. लगभग) उत्तरभारत कालीन शासक था। अभिलेखों में इसे महाराज कहा गया है।
  • राज्यवर्द्धन-I (525 ई. – 550 ई.) की उपाधि भी महाराज थी। इसे परमादित्यभक्त भी कहा गया है।
  • आदित्यवर्द्धन (550 ई.-580 ई.) की उपाधि महाराज थी, इसे भी परमादित्यभक्त कहा गया है।
  • प्रभाकरवर्द्धन (580 ई. – 605 ई.) ने परमभट्टारक महाराधिराज का उपाधि ग्रहण की। इसने हूणों को परास्त कर लाट, मालवा, गांधार, सिंधु पर विजय प्राप्त की।
  • राज्यवर्द्धन-II (605 ई. – 606 ई.), हर्षवर्द्धन का ज्येष्ठ भ्राता था। बंगाल के गौड़ शासक शंशाक द्वारा इसकी हत्या कर दी गई।

हर्षवर्द्धन (606 ई. – 647 ई.) —

  • मात्र 17 वर्ष की आयु में हर्षवर्द्धन सन 612 में राजपुत्र की उपाधि और शीलादित्य उपनाम के साथ कन्नौज के सिंहासन पर बैठा।
  • यह अपने वंश का अंतिम महान शासक था। साथ ही उत्तर भारत का अंतिम महान हिन्दू सम्राट भी था।
  • हर्ष ने अपनी बहन राजश्री को कन्नौज की शासिका बनाया और अपनी राजधानी थाणेश्वर से कन्नौज हस्तांतरित कर ली।
  • हर्ष ने कामरूप शासक भास्करवर्मा के सहयोग से गौड़ नरेश शंशाक को पराजित किया।
  • हर्ष ने वल्लभी शासक ध्रुवसेन-III से अपनी पुत्री का विवाह किया।
  • ऐहोल प्रशस्ति अभिलेख से ज्ञात होता है कि चालुक्य शासक पुलकेशिन द्वितीय ने नर्मदा नदी के तट पर हर्ष को पराजित किया था।
  • हर्ष प्रारम्भ में शिव एवं सूर्योपासक था। बाद में दिवाकर के प्रभाव से हीनयानी बौद्ध मतावलम्बी बन गया।
  • हर्ष ने प्रयाग में (पूर्व का इलाहाबाद) महामोक्ष परिषद का आयोजन किया।
  • चीनी यात्री ह्वेनसांग का आगमन (630 ई. – 645 ई.) हर्षवर्द्धन के काल में ही हुआ था।
  • ह्वेनसांग को यात्रियों में राजकुमार, नीति का पंडित और वर्तमान शाक्यमुनि भी कहा जाता है।
  • ह्वेनसांग ने अपना यात्रा वर्णन ‘सी-यू-की’ नामक पुस्तक में लिखा था।
  • हर्ष स्वयं उच्चकोटी का कवि था, जिसने संस्कृत में नागानन्द, प्रियदर्शिका, रत्नावली नामक नाटक लिखे।
  • हर्ष के दरबारी कवि बाणभट्ट ने कादम्बरी एवं हर्षचरित की रचना की।
  • हर्ष के अधीनस्थ शासक महाराजा एवं महासामंत कहलाते थे।
  • हर्ष के शासन काल में प्रान्त भुक्ति कहे जाते थे।
  • भुक्ति का विभाजन विषय (जिलों) में, इसका प्रधान विषयपति कहलाता था।
  • विषय के नीचे तहसील थी। ग्राम शासन की सबसे छोटी इकाई थी। ग्राम के प्रधान ग्रामक्षपटलिक कहलाते थे। पुलिसकर्मी को चाट या भाट कहा जाता था।
  • पुलिस अधिकारी दाण्डिक या दण्डपाशिक कहलाते थे।
  • हर्ष काल में मथुरा प्रमुख सूती वस्त्र का केन्द्र था।
  • सिंचाई के साधन के रूप में तुलायंत्र का उल्लेख हर्षचरित्र में मिलता है।
  • हर्ष ने कन्नौज में एक धर्म सम्मेलन आयोजित करवाया था।
  • हर्ष के मृत्योपरांत कन्नौज पर अधिकार को लेकर त्रिपक्षीय संघर्ष (पाल-प्रतिहार-राष्ट्रकूट के मध्य) की शुरुआत की गई।

राज्यों के विभिन्न स्थानों से प्राप्त महत्वपूर्ण पुरावशेष

पुरावशेष———————–प्राप्ति स्थान

  1. इन्डों-ग्रीक सिक्के————-खोखराकोट (रोहतक)
  2. कुषाणकालीन सिक्के (सोने व चांदी के) ———-मीताथल (भिवानी)
  3. सीसवाल संस्कृति के आभूषण——-कुणाल (हिसार)
  4. मौर्यकालीन स्तूप व अवशेष——हिसार व फतेहाबाद
  5. सिक्के ढालने के साँचे———-खोखराकोट, औरंगाबाद, अग्रोहा, बरवाला (हिसार)
  6. यौधेय गणराज्य की मुहरें (सील)——-नौरंगाबाद (भिवानी)
  7. समुद्रगुप्त कालीन सिक्के—–भीताथल (भिवानी)
  8. हर्षकालीन ताम्र मुद्राएँ———सोनीपत
  9. टकसालें (मुहरें व सिक्के ढालने हेतु निर्मित)——-अग्रोहा, औरंगाबाद, बरबाला
  10. मिट्टी की मुहरें———-दौलतपुर
  11. कुणिन्दकालीन सिक्के——–करनाल, जगाधरी, सुध बूड़िया
  12. श्लोकटंकित रामायण ——-नचारखेड़ा (भिवानी)
  13. आधे दिरहम———-सोनीपत
  14. इंडोसिस्सानियन चाँदी के सिक्के——कपालमोचन से
  15. प्रतिहार, तोमर और चौहान शासकों के सिक्के——–खोखराकोट, बूड़िया, सुध
  16. अग्र गणराज्य के सिक्के————-अग्रोहा, औरंगाबाद, बरवाला

Haryana GK Ancient history of Haryana

हॉट प्वॉइन्ट

  1. हरियाणा का प्रथम प्रादेशिक नाम है —- ब्रह्मवर्त
  2. हरियाणा को बहुधान्यक कहा जाता है—– महाभारत में
  3. हरियाणा शब्द की जानकारी किस ग्रन्थ से प्राप्त होती है। – ऋग्वेद, यजुर्वेद, ऐतरेय ब्राह्मण, शतपथ ब्राह्मण
  4. रोहतक शहर का उल्लेख प्राप्त होता है —-महाभारत (नकुल दिग्विजय में)
  5. बौद्ध ग्रन्थों में हरियाणा के किन शहरों का उल्लेख प्राप्त होता है – अग्रोहा (हिसार) रोहतक
  6. दो महाजनपदों के नाम, जो हरियाणा का (वर्तमान में) हिस्सा थे ——कुरू और पंचाल
  7. हरियाणा के किस जिले में कुणिन्द गणराज्य अवस्थित था —-अम्बाला
  8. तोमर शासकों की जानकारी प्राप्त होती है किस ग्रन्थ से. —– यशतिलक चम्मू
  9. उत्तर वैदिक काल में हरियाणा जाना जाता था —– मध्य देश के नाम से
  10. घग्घर नदी हरियाणा में आर्यों का प्रथम स्थल थी। अतः हरियाणा कहलाया —- आर्यावर्त
  11. छठी-सातवीं सदी में हरियाणा जाना जाता था —- श्री कंठ जनपद के नाम से
  12. भगवान श्रीकृष्ण द्वारा गीता का उपदेश (अर्जुन को) सुनाया गया था —- ज्योतिसर सरोवर (कुरुक्षेत्र )
  13. किसने सूरजकुंड की स्थापना की —- सूरजपाल
  14. हर्षवर्द्धन की प्रारम्भिक राजधानी —–थानेश्वर
  15. आर्यों का सबसे पहला स्थाई निवास माना जाता है—— हरियाणा

Haryana GK Ancient history of Haryana

MULTIPLE CHOICE QUESTIONS

1 Haryana was earlier known as:

(a) Bharatvarsha (b) Bharat (c) Brahmavrat (d) None of these

2 The social and political life of Haryana state is mentioned in which historical text?

(a) Kumarika Khanda (b) Brahmana texts (c) Rigveda (d) Both (b) and (c)

3 The famous religious book/text of Mahabharata’ was written in which district of Haryana? [PGT 2016]

(a) Hisar (b) Sonipat (c) Karnal (d) Kurukshetra

4 Haryana was known by which name during Yaudheya Period? [Bus Conductor 2016]

(a) Haritdesha (b) Harit Pradesh (c) Banudhanyaka (d) Haritdhanyaka

5 Rohtak district got its mention in which historical text? [PGT 2016]

(a) Divyavdan (b) Majjhima Nikaya (c) Nakula-Digvijyams (d) Kathakosh

6 Which city of Haryana is associated with Karna of Mahabharata? (HSSC 2015]

(a) Karnal (b) Kurukshetra (c) Kunjpura, (d) Kunal

7 Agroha (Hisar) is mentioned in which texts?

(a) Divyavdan (b) Kathakosh (c) Bhadrabahu Charita (d) All of the above

8 All the seven notes of music have been mentioned in the inscription which has been found at which place of Haryana? [Haryana Clerk 2016]

(a) Sudh (b) Agroha (c) Rohtak (d) Mitathal

9 Rakhigarhi, a Harappan civilisation place is located in which of the following district of Haryana? (PGT 2016]

(a) Hisar (b) Kurukshetra (c) Fatehabad (d) Sirsa

Haryana GK Ancient history of Haryana

10 Black-shiny decorated pottery have been found in Haryana, it depicts culture of which period ? [TGT 2015] (a) Vedic Period (b) Indus Valley Civilisation (c) Siswal Civilisation (d) None of the above

11 Which types of coins have been discovered form the mounds of Hisar and Agroha?

(a) Punch marked coins (b) Square-shaped coins (c) Rectangle-shaped coins (d) Triangular-shaped coins

12 The ancient and sacred river of Haryana is

(a) Saraswati (b) Drishadvati (c) Ganga (d) Both (a) and (b)

13 Stone tools of Palaeolithic age are found at which place of Haryana?

(a) Dhamli (b) Pinjore (c) Firozpur (d) All of these

14 The important place related to Siswal culture is

(a) Hisar (b) Sirsa (c) Fatehabad (d) All of the above

15 Which is the first excavated site of ‘Hakra culture’?

(a) Kunal (b) Mitathal (c) Bhirrana (d) None of these

16 Which Harappan site is located in Fatehabad district of Haryana? (PGT 2016]

(a) Banawali (b) Lothal (c) Dholavira (d) Kalibangas

17 At which place, two terracotta sculptures of Matra devi have been found in Haryana?

(a) Banawali (b) Rakhigarhi (c) Mitathalie maig (d) Bhirrana

18 The largest number of barley and grains evidences have been discovered at which Harappan site of Haryana

(a) Mitathal (b) Banawali (c) Siswal (d) Bhirrana 2

19 The battle of Ten Kings took place on the banks of river

(a) Sindhu (b) Parusni (c) Vitasta (d) Vipasa

20 What was the capital of Kuru clan, which was among the 16 Mahajanapadas, during Mahabharata period [PGT 2016)

(a) Hastinapur (b) Indraprastha (c) Kurukshetra (d) None of these

Haryana GK Ancient history of Haryana

21 Which of the following was the Capital of Kuru Mahajanapada during Mahabharata period?

(a) Hastinapur (b) Meerut (c) Delhi Sulgue (d) Thaneshwar

22 Coins of Yaudheya clan have been discovered at which place of Haryana?

(a) Saharanpur (b) Sonipat (c) Bhiwani (d) Both (a) and (b)

23 What was the capital of Agar Republican state? [PGT 2016)

(a) Agroha (b) Rewari (c) Sirsa (d) Hansi

24 Maharaja Agrasena was associated with which place? [Patwari 2016)

(a) Sirsa (b) Pehowa (c) Rohtak (d) Agroha

25 Vardhana dynasty was founded at which place of Haryana ? [HSSC 2015]

(a) Thanesar (b) Rohtak (c) Panipat ! (d) Kurukshetra?

26 Thanesar was the capital of which famous ruler? [PGT 2016]

(a) Harshavardhana (b) Ashoka (c) Chandragupta Vikramaditya (d) Kanishka

27 The book written by the Chinese traveler depicts power and glory of which place of Haryana? [PGT 2018]

(a) Thanesar (b) Patiala (c) Mahendragarh (d) Kurukshetra

28 Mihira Bhoj, was a famous ruler of which among the following dynasties?

(a) Vardhana dynasty (b) Gurjara-Pratihara dynasty (c) Yaudheyas (d) Maurya dynasty

29 Sthanishvara was the ancient name of

(a) Sirsa (b) Sonipat (c) Kurukshetra (d) Karnal

Haryana GK Ancient history of Haryana

विगत वर्षों में पूछे गए वस्तुनिष्ठ प्रश्न

30. हरियाणा के किस जिले में सुप्रसिद्ध धार्मिक पुस्तक महाभारत की रचना हुई थी? (पीजीटी 2016)

(a) हिसार (b) सोनीपत (c) करनाल – (d) कुरुक्षेत्र

31. निम्न में से किस ग्रन्थ में रोहतक का उल्लेख मिलता है? (पीजीटी 2016)

(a) दिव्यावदान (b) मज्झिमनिकाय (c) नकुल-दिग्विजय (d) कथाकोश

32. हरियाणा में कौन-सा शहर महाभारत के कर्ण से सम्बन्धित (एच एस एस सी जेई 2015)

(a) करनाल (b) कुरुक्षेत्र (c) कुंजपुरा (d) कुनाल

33. यौधेय काल में हरियाणा को किस नाम से जाना जाता है ? (बस कण्डकटर 2006)

(a) हस्तिदेश (b) हरित प्रदेश (c) बहुधान्यक (d) हरितधान्यक

34. किस स्थान से प्राप्त अभिलेखों में संगीत के सात स्वरों का उल्लेख है? (हरियाणा क्लर्क 2016)

(a) सुध (b) अग्रोहा (c) रोहतक (d) मिताथल

35. काले-चमकीले चित्रित मृदभाण्ड किस काल की संस्कृति दर्शाते हैं? (टी जी टी इंग्लिश मेवात 2015)

(a) वैदिक काल (b) सिन्धु सभ्यता (c) सीसवाल सभ्यता (d) इनमें से कोई नहीं

36. निम्नलिखित जिलों में से किसमें हड़प्पा सभ्यता का राखीगढ़ी स्थल खोदा गया था? (पी जी टी 2016)

(a) हिसार (b) कुरुक्षेत्र (c) फतेहाबाद (d) सिरसा

37. निम्न में से कौन-सा हड़प्पा सभ्यता स्थल फतेहाबाद, हरियाणा में से स्थित है। (पी जी टी 2016)

(a) बनवाली (b) लोथल (c) धोलावीरा (d) कालीरंग ।

38. कुरु की राजधानी (वर्तमान हरियाणा/दिल्ली) 16 – महाजनपदों में से एक था (पीजीटी 2016)

(a) इन्द्रप्रस्थ (b) कौशाम्बी (c) मथुरा (d) वाराणसी

39. हरियाणा प्रदेश का कौन-सा स्थान अग्र गणराज्य की राजधानी था? (पीजीटी 2016)

(a) रेवाड़ी (b) हाँसी (c) सिरसा (d) अग्रोहा

Haryana GK Ancient history of Haryana

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page