Uttarakhand GK

  • उत्तराखंड का भूगोल | Geography of Uttarakhand
    Uttarakhand GK

    उत्तराखंड का भूगोल | Geography of Uttarakhand

    उत्तराखंड: भौगोलिक स्थिति Uttarakhand Physical Location & Division उत्तराखंड का भूगोल | Geography of Uttarakhand  उत्तराखंड (एक दृष्टि में) [उत्तराखंड का भूगोल | Geography of Uttarakhand ] स्मरणीय तथ्य (PTR – Points To Remember) राज्य का गठन——-9 नवंबर, 2000 उत्तरांचल से उत्तराखंड नाम पड़ा ——- 1 जनवरी, 2007 को पौराणिक नाम ——- केदारखंड या मानसखंड लंबाई —- पूर्व से पश्चिम की ओर ———358 किमी. चौड़ाई—– उत्तर से दक्षिण की ओर —–320 किमी. क्षेत्रफल―—-53,483 वर्ग किमी. (भारत के कुल भौगोलिक क्षेत्रफल 32,87,263 वर्ग किमी. का लगभग 1.63%)। वर्तमान में राज्यों में क्षेत्रफल की दृष्टि से भारत में स्थान —— 18वां राजधानी ——— देहरादून (अस्थायी )। प्रस्तावित राजधानी –—- गैरसैंण सीमावर्ती देश…

  • उत्तराखण्ड अनुसूचित जाति एवं जनजातियाँ Tribes of Uttarakhand
    Uttarakhand GK

    उत्तराखण्ड अनुसूचित जाति एवं जनजातियाँ Tribes of Uttarakhand

    उत्तराखण्डः अनुसूचित जाति एवं जनजातियाँ Tribes of Uttarakhand: Schedule caste and Schedule Tribes उत्तराखण्डः अनुसूचित जाति एवं जनजातियाँ जनगणना, 2011 के अंतिम आंकड़ों के अनुसार राज्य की कुल जनसंख्या 1,00,86,292 हैं। इसमें संयुक्त रूप से अनुसूचित जाति व जनजाति लोगों की जनसंख्या 21,84,419 है, जो कि राज्य की कुल जनसंख्या के 21.65 हैं। अनुसूचित जाति व जनजाति सम्बंधी राज्य स्तरीय जननांकीय आंकड़े इस प्रकार हैं- मद Schedule Caste Schedule Tribes कुल जनसंख्या 18,92,516 2,91,903 राज्य की कुल जनसंख्या में प्रतिशत 18.8 2.9 पुरुष जनसंख्या 9,86,586 (52.13%) 1,48,669 (50.93%) महिला जनसंख्या 9,23,930 (47.87%) 1,43,235 (49.07%) लिंगानुपात 936 963 अनुसूचित जातियाँ अगरिया, बधिक, बादी, बहेलिया, बैगा, बैसवार, बजनिया, बाजगी, बलहर, बलाई, बाल्मिक,…

  • उत्तराखण्ड परिवहन तंत्र Transport of Uttarakhand
    Uttarakhand GK

    उत्तराखण्ड परिवहन तंत्र Transport of Uttarakhand

    उत्तराखण्ड परिवहन तंत्र Transport of Uttarakhand उत्तराखण्ड : परिवहन तंत्र जो भूमिका शरीर में धमनियों का है, वही भूमिका किसी देश या राज्य में परिवहन के साधनों का है। बिना परिवहन साधनों का विकास किये, किसी देश या राज्य का समुचित विकास सम्भव नहीं है। कठिन भौतिक संरचना के कारण भारत-चीन युद्ध के पूर्व तक इस पर्वतीय क्षेत्र में परिवहन के साधनों का विकास अपेक्षाकृत बहुत कम हुआ था। लेकिन युद्ध के बाद सामरिक महत्व को देखते हुए इसके विकास पर अधिकाधिक बल दिया जाने लगा। राज्य के गठन के बाद इसके विकास में और तीव्रता आई है। राज्य में प्रयुक्त परिवहन साधनों का संक्षिप्त वर्णन अधोलिखित है । सड़क…

  • उत्तराखंड जनगणना 2011 Uttarakhand census 2011
    Uttarakhand GK

    उत्तराखंड जनगणना 2011 Uttarakhand census 2011

    उत्तराखंड जनगणना 2011 Uttarakhand census 2011 उत्तराखण्ड जनगणना- 2011 उत्तराखण्ड जनगणना- 2011 यद्यपि भारत में पहली जनगणना 1872 में हुई लेकिन इसकी विधिवत शुरूआत 1881 में रिपन के काल से हुई और तब से प्रत्येक 10 वर्ष पर नियमित जनगणना होती रही है। वर्ष 2011 में 15वीं जनगणना सम्पन्न हुई । जनगणना की संदर्भ तिथि 1 मार्च, 2011 के 00:00 रखी गई थी। इसके अनंतिम आंकड़े 31 मार्च, 2011 को जारी किये गये थे जबकि अंतिम आंकड़े 30 अप्रैल, 2013 को नई दिल्ली में जारी किये गये हैं। प्रदेश स्तर पर राज्य सम्बंधी अनंतिम आंकड़े 2 अप्रैल, 2011 को देहरादून में जारी किये गये थे, जबकि अंतिम आंकड़े 31 मई,…

You cannot copy content of this page