• Previous Year papers

    UPPSC Pre Exam 2020, UPPSC Previous Year Questions

    UPPSC Pre Exam 2020, UPPSC Previous Year Questions राष्ट्रीय स्वच्छ वायु कार्यक्रम केंद्र सरकार द्वारा किस वर्ष में प्रारंभ किया गया है? (a) 2018                          (b)2017                                  (c)2020                             (d)2019 उत्तर-(d) जनवरी, 2019 में केंद्रीय पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय द्वारा राष्ट्रीय स्वच्छ वायु कार्यक्रम (NCAP) लांच किया गया था। इसका उद्देश्य व्यापक रूप से वायु प्रदूषण की समस्या से निपटना है। इसका लक्ष्य वर्ष 2017 की तुलना में वर्ष 2024 तक PM 10 तथा PM 2.5 की सांद्रताओं में 20-30 प्रतिशत तक की…

  • Uncategorized

    पर्यावरण और आत्मनिर्भरता/ Environment and Self-sufficiency

    निबन्ध लिखिए -02 पर्यावरण और आत्मनिर्भरता/ Environment and Self-sufficiency पर्यावरण भौतिक तत्वों, शक्तियों और परिस्थितियों का ऐसा समुच्चय है जो जैव जगत को प्रभावित करता है। पर्यावरण शब्द का निर्माण दो शब्दों परि और आवरण से मिलकर बना है, जिसमें परि का मतलब है हमारे आसपास अर्थात जो हमारे चारों ओर है, और ‘आवरण’ जो हमें चारों ओर से घेरे हुए है। पर्यावरण उन सभी भौतिक, रासायनिक एवं जैविक कारकों की समग्र इकाई है जो किसी जीवधारी अथवा पारितंत्रीय आबादी को प्रभावित करते हैं तथा उनके रूप, जीवन और जीविता को तय करते हैं। पर्यावरण के जैविक संघटकों में सूक्ष्म जीवाणु से लेकर कीड़े-मकोड़े, सभी जीवजंतु और पेड़-पौधों के अलावा…

  • Uncategorized

    लोकतंत्र में न्यायपालिका की भूमिका / Role of Judiciary in Democracy in Hindi

    निबन्ध लिखिए -01 लोकतंत्र में न्यायपालिका की भूमिका / Role of Judiciary in Democracy अब्राहम लिंकन ने लोकतंत्र को ‘जनता के लिए, जनता द्वारा जनता का शासन‘ कहा है। हेरोडोट्स का मत था कि लोकतंत्र बहुसंख्यकों का शासन है। अर्थात् लोकतांत्रिक व्यवस्था में जनता ही केन्द्रबिन्दु होती है। आधुनिक विश्व में प्रचलित शासन पद्धतियों में लोकतंत्र का महत्वपूर्ण स्थान है। लोकतंत्र वस्तुतः सरकार या शासन का स्वरूप ही नहीं है, अपितु राज्य का एक प्रकार और समाज की एक व्यवस्था भी है। भारत में आजादी के बाद लोकतांत्रिक गणराज्य की अवधारणा को लागू किया गया और पूरे देश में व्यवस्था को विधायिका, न्यायपालिका एवं कार्यपालिका के रूप में तीन भागों…

  • Uncategorized

    Anthropology Syllabus

    ANTHROPOLOGY – SYLLABUS For UPSC & Other Civil Examinations Let’s start — ANTHROPOLOGY – SYLLABUS Paper-I   Part-A Chapter-01 Meaning, scope and development of Anthropology. Relationships with other disciplines: Social Sciences, Behavioral Sciences, Life Sciences, Medical Sciences, Earth Sciences and Humanities. Main branches of Anthropology, their scope and relevance: (a)  Social- cultural Anthropology. (b) Biological Anthropology (c) Archaeological Anthropology. (d) Linguistic Anthropology. Human Evolution and emergence of Man: Biological and Cultural factors in human evolution. Theories of Organic Evolution (Pre Darwinian, Darwinian and Post Darwinian).Synthetic theory of evolution; Brief outline of terms and concepts of evolutionary biology (Doll’s rule, Cope’s rule, Gause’s rule, parallelism, convergence, adaptive radiation, and mosaic evolution). Characteristics…

You cannot copy content of this page